डर का इलाज

..अब एक छोटा-सा इलाज है जो बहुत सरल है, क्योंकि यह सहज बुद्धि के एक छोटे-से निजी प्रश्न पर आधारित है….। तुम्हें जरा अवलोकन करना चाहिये और कहना चाहिये कि जब तुम डरते हो तो मानों तुम्हारा डर उस चीज को खींच रहा है जिससे तुम डरते हो। अगर तुम बीमारी से डरते हो तो मानों तुम बीमारी को खींचते हो। अगर तुम किसी दुर्घटना से डरते हो तो मानों तुम दुर्घटना को आकर्षित करते हो। और अगर तुम अपने अन्दर और अपने चारों ओर जरा नजर डालो तो तुम यह जान लोगे, यह एक अटल सत्य है। तो अगर तुम्हारे अन्दर जरा भी सहज बुद्धि है तो तुम कहोगे : “किसी चीज से डरना मूर्खता है। यह तो ठीक वैसा है मानों में उसे अपने पास आने के लिए इशारा कर रहा हूं। अगर मेरा कोई दुश्मन होता जो मेरी हत्या करना चाहता तो मैं जाकर उससे यह न कहता : ‘जानते हो, मैं ही हूं जिसकी तुम हत्या करना चाहते हो।'” यह कुछ वैसी ही बात है। इसलिए, चूंकि डर बुरा है इसलिए हम उसे न रखेंगे। अगर तुम यह कहो कि तुम उसे तर्क करके रोक नहीं सकते तो इससे यह प्रकट होता है कि तुम्हें अपने ऊपर अधिकार नहीं है और तुम्हें अपने-आपको वश में करने के लिए कुछ प्रयास करना चाहिये। बस यही है।

संदर्भ : प्रश्न और उत्तर १९५३

प्रातिक्रिया दे