स्वप्न

मधुर मां,
 हम स्वप्न में अच्छे और बुरे में कैसे फर्क कर सकते हैं?

सिद्धान्त रूप में, नींद के क्रिया-कलाप का मूल्यांकन करने के लिए हमें उसी तरह की विवेक-शक्ति की जरूरत होती है जैसी जाग्रत क्रिया-कलाप को परखने के लिए।

लेकिन चूंकि हम सामान्यतः ऐसी बहुत-सी क्रियाओं को “स्वप्न” का नाम दे देते हैं जो एक-दूसरे से बहुत भिन्न होती हैं इसलिए जो चीज सबसे पहले सीखनी चाहिये वह है विभिन्न प्रकार की क्रियाओं में भेद कर सकना, यानी यह जानना कि सत्ता का कौन-सा भाग “स्वप्न” देख रहा है. हम किस क्षेत्र में “स्वप्न देख रहे है” और उस क्रिया की क्या प्रकृति है। श्रीअरविन्द ने अपने पत्रों में नींद की सभी क्रियाओं का पूरा-पूरा और विस्तृत वर्णन और स्पष्टीकरण दिया है। इस विषय का अध्ययन करने और
उसका व्यावहारिक उपयोग करने के लिए इन पत्रों को पढ़ना एक अच्छा परिचय प्राप्त है।

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड-१६)

प्रातिक्रिया दे