एक ही शक्ति

माताजी और मैं दो रूपों में एक ही ‘शक्ति’ का प्रतिनिधित्व करते हैं – अतः स्वप्न  में देखा हुआ तुम्हारा अंतरदर्शन पूरी तरह से तर्कसंगत था। ईश्वर-शक्ति, पुरुष प्रकृति एकमेव भगवान (ब्रह्मन) के दो पक्ष है।

संदर्भ : माताजी के विषय में 

प्रातिक्रिया दे