परम चेतना

एक परम चेतना है जो अभिव्यक्ति पर शासन करती है। निश्चय ही उसकी बुद्धि हमारी बुद्धि से बहुत महान है। इसलिए हमें यह चिंता न करनी चाहिये कि क्या होगा।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-१)

प्रातिक्रिया दे