माताजी और मैं

माताजी और मैं एक ही हैं पर दो शरीरों में, यह आवश्यक नहीं है कि दोनो शरीर सदा एक ही काम करें। इसके विपरीत, क्योंकि हम एक ही हैं, एक का ही हस्ताक्षर करना बिल्कुल पर्याप्त है, जिस प्रकार प्रणाम  ग्रहण करने या ध्यान कराने के लिए एक ही का  नीचे जाना सर्वथा पर्याप्त है।

संदर्भ : माताजी के विषय में 

प्रातिक्रिया दे