प्रतिज्ञाओं की तीव्रता


श्रीअरविंद आश्रम की श्रीमाँ

मधुर माँ,

मैं जो प्रतिज्ञाएँ करता हूँ वे अपनी तीव्रता और उत्साह कुछ ही समय बाद खो बैठती हैं। मैं इस उत्साह को कैसे बनाये रख सकता और अधिकाधिक बढ़ा सकता हूँ ?

उसे चाहने से ।

 

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड – १६)


0 Comments