अतिमानसिक विज्ञान का पूर्ण उद्घाटन

जब मानसिकता पीछे छूट जाती है तथा निष्क्रिय नीरवता में दूर चली जाती है, केवल तभी अतिमानसिक विज्ञान का पूर्ण उद्घाटन और उसकी प्रभुत्व-सम्पन्न तथा समग्र क्रिया हो सकती है ।

संदर्भ : योग-समन्वय

प्रातिक्रिया दे