महत्वकांक्षा

कोई महत्वकांक्षा न रखो, और सबसे बढ़ कर यह कि कभी किसी चीज़ का दावा न करो, हर क्षण, तुम अधिक-से-अधिक जो हो सकते हो वह बनो।

संदर्भ : शिक्षा के ऊपर 

प्रातिक्रिया दे