आपसे दूरी

हे माँ, मैं आपसे सचमुच बहुत दूर हूँ !

इसका कारण यह है कि तुम बहुत बिखरे हुए हो – तुम्हारी चेतना एकाग्र रहने की बजाय बाहरी, सतही चीजों की ओर दौड़ती है ।

संदर्भ : शांति दोशी के साथ वार्तालाप

प्रातिक्रिया दे