अहंकार और अन्तरात्मा

अहंकार उसके बारे में सोचता है जो उसके पास नहीं है और जिसे वह चाहता है। यही उसका निरन्तर  मुख्य काम है ।

अन्तरात्मा जानती है कि उसे क्या दिया जाता है और वह अनन्त कृतज्ञता में निवास करती है।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे