सबसे उत्तम मार्ग


श्रीअरविंद आश्रम की श्रीमाँ की टॉफी की कहानी

संतुलन अनिवार्य है, जो पथ सावधानतापूर्वक विपरीत चर्मवस्थाओं से बचता है वह अनिवार्य है, अत्यधिक जल्दबाज़ी खतरनाक है, अधैर्य आगे बढ्ने से तुम्हें रोकता है; और साथ-ही-साथ, तामसिकता तुम्हारें पैरो में बेड़ियाँ डाल देती है।

अतएव, सभी चीजों के लिए वास्तव में माध्यम मार्ग (मज्झम निकाय) ही, जैसा कि बुद्ध ने इसे नाम दिया था, सबसे उत्तम है।

संदर्भ : प्रश्न और उत्तर १९५६


0 Comments