भगवान की बातें

जो अपने हृदय के अन्दर सुनना जानता है उससे सारी सृष्टि भगवान् की बातें करती है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-३)

 

प्रातिक्रिया दे