जीवन का खालीपन

जीवन का एक प्रयोजन है-और वही एकमात्र सच्चा और स्थायी प्रयोजन है-वह हैं भगवान् । ‘उनकी’ ओर मुड़ो तो रिक्तता चली जायेगी ।

आशीर्वाद ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे