अंतिम विजय की निश्चिति

‘सत्य’ मिथ्यात्व से बढ़ कर बलवान है। एक अमर ‘शक्ति’ जगत पर शासन करती है। उसके निश्चय हमेशा सफल होते हैं। उसके साथ हो जाओ तो तुम अंतिम विजय के बारे में निश्चित रहोगे।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे