श्रद्धा की निगरानी

श्रद्धा निश्चित रूप से हमें भागवत कृपा द्वारा दिया गया उपहार है। …

अपनी श्रद्धा की उसी तरह निगरानी करनी चाहिए जैसे कोई किसी अत्यधिक मूल्यवान वस्तु के जन्म के समय करता है और इसका उन सब चीजों से सावधानी के साथ बचाव करना चाहिए जो इसे हानि पहुंचा सकती है ।

संदर्भ : प्रश्न और उत्तर (१९५७-१९५८)

प्रातिक्रिया दे