कब तक

कब तक तुम इस मन के गोलाकार पथों पर चक्कर खाते रहोगे ?

अपनी क्षुद्र अहम सत्ता और नगण्य वस्तुओं से घिरे रहोगे ?

संदर्भ : सावित्री 

प्रातिक्रिया दे