दो संभावनाएँ

दो संभावनाएँ होती हैं, एक है व्यक्तिगत प्रयास के द्वारा शुद्धिकरण, जो लंबा समय लेता है; दूसरा है भागवत कृपा के प्रत्यक्ष हस्तक्षेप के द्वारा जो प्राय: तेजी से क्रिया करता है। भागवत कृपा के हस्तक्षेप द्वारा शुद्धिकरण के लिए व्यक्ति का सम्पूर्ण समर्पण और आत्मदान होना अनिवार्य है और उसके लिए, पुनः, सामान्य रूप से मन का पूर्णतः अचंचल होना आवश्यक है जिससे भागवत शक्ति को क्रिया करने में हर पग पर व्यक्ति की निष्ठा द्वारा समर्थन प्राप्त हो। अन्यथा, वह शांत और स्थिर बना रहे।

संदर्भ : श्रीअरविंद के पत्र (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे