आध्यात्मिक जीवन

यहाँ पर हमारा कोई धर्म नहीं है। हम धर्म के स्थान पर आध्यात्मिक जीवन को रखते हैं जो एक ही साथ अधिक सच्चा , अधिक गहरा और अधिक ऊंचा है, यानि भगवान के अधिक निकट है। क्योंकि भगवान हर चीज़ में हैं, परंतु हम उनके बारे में सचेतन नहीं हैं। यही वह विशाल प्रगति है जो मनुष्य को करनी चाहिये।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-१)

प्रातिक्रिया दे