मृत्यु की अनिवार्यता पर विजय

जब शरीर बढ़ती हुई पूर्णता की ओर सतत प्रगति करने की कला सीख ले तो हम मृत्यु की अनिवार्यता पर विजय पाने के पथ पर अग्रसर होंगे ।

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड-१६)

प्रातिक्रिया दे