भगवान की परीक्षा

भगवान जब बुरी-से-बुरी परीक्षा लेते हैं तब वह अच्छे-से-अच्छा पथ दिखाते हैं, जब वह कठोरतापूर्वक दण्ड देते है तब वह संपूर्णतः प्रेम करते हैं, जब वह प्रचण्ड रूप से विरोध करते है तब वह पूर्ण रूप से सहायता करते हैं ।

संदर्भ : विचारमाला और सूत्रावली

प्रातिक्रिया दे