काम में रस

आपने लिखा था, “काम में रस होना चाहिये। ” लेकिन मैं पूर्ण रस या मजा नहीं ले पाता। 

कार्य की उत्तम अवस्था है कि तुम जो कर रहे हो उसमें रस लो – लेकिन उत्तम अवस्था हमेशा तुरंत पाना संभव नहीं होता ।

संदर्भ : श्रीअरविंद के पत्र एक युवा साधक के नाम 

प्रातिक्रिया दे