चिंता न करो

मैं रो रहा हूँ । न जाने क्यों ।

मन करें तो रो लो। परंतु चिंता न करो। वर्षा के बाद सूर्य तेजी से चमकता है ।

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड-१६)

प्रातिक्रिया दे