आश्रम में रहना पर्याप्त नहीं

नहीं, आश्रम में रहना पर्याप्त नहीं है – व्यक्ति को श्रीमाँ के प्रति उद्घाटित होना होगा और उस कीचड को अपने ऊपर से साफ करना होगा जिसमें वह जगत के अंदर रहते हुए खेल रहा था ।

संदर्भ : माताजी के विषय में 

प्रातिक्रिया दे