पवित्रता

जो जीव नग्न और लज्जाविहीन होता है केवल वही पवित्र और निर्दोष हो सकता है, ठीक जैसे कि मानवता के आदिम बगीचे में आदम था ।

संदर्भ : विचारमाला और सूत्रावली

प्रातिक्रिया दे