निरुत्साहित मत हो

किसी कठिनाई के कारण बेचैन या निरुत्साहित मत होओ, बल्कि चुपचाप और सरल भाव से अपने को माताजी की शक्ति की ओर खोले रखो और उसे अपने अंदर परिवर्तन लाने दो।

संदर्भ : माताजी के विषय में 

प्रातिक्रिया दे