भगवान

वास्तव में भगवान वही हैं जिनकी गहराई में तुम अभीप्सा करते हो ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे