हृदय

भगवान हमेशा तुम्हारें हृदय में आसीन होते हैं , सचेतन रूप से जीवित रहते है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग -२)

प्रातिक्रिया दे