माताजी का स्पर्श

प्रणाम के समय माताजी की ओर से एक स्पर्श सदा ही आ रहा होता है, उसे ग्रहण करने के लिये व्यक्ति को सचेतन और उन्मीलित होना होता है ।

संदर्भ : माताजी के विषय में

प्रातिक्रिया दे