आश्वासन

देखा है जिन्होने मुझे, कभी न संतप्त वे।

संदर्भ : सावित्री 

प्रातिक्रिया दे