दूसरों की राय

जो दोषहीन है वह दूसरों की राय की परवाह नहीं करता ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे