क्रोध

क्रोध में कभी कोई समझदारी की बात नहीं की जाती, सिर्फ मूर्खता ही निकलती है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग -२)

प्रातिक्रिया दे