सहन करना

सहन करना श्रेष्ठ भाव से भरपूर होना है ; इसका स्थान पूर्ण समझ को लेना चाहिये।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-२)

प्रातिक्रिया दे