तुम्हारी दिलचस्पी

वास्तविक तथ्य यह है कि विश्व में जिस चीज़ में तुम्हारी दिलचस्पी है – सीधे या घुमावदार रूप में, वह तुम स्वयं हो। यही कारण है कि तुम स्वयं को इतनी तंग और घुटन भरी सीमाओं में कैद पाते हो ।

संदर्भ : माताजी का एजेंडा (भाग-१)

प्रातिक्रिया दे