रति

आत्म-रति भयानक बाधा है ।

प्रभु-रति महान उपचार है ।

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड-१६)

प्रातिक्रिया दे