कभी-कभी

कभी-कभी मनुष्य को न जानना भी जानना चाहिए।

संदर्भ: श्रीमाँ का एजेंडा (भाग-१)

प्रातिक्रिया दे