सुख

तुम जो सुख पाते हो उसकी अपेक्षा तुम जो सुख देते हो वह तुम्हें ज़्यादा सुखी बनाता है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग – २)

प्रातिक्रिया दे