स्वाधीनता

स्वाधीनता बाहरी परिस्थितियों से नहीं , आंतरिक मुक्ति से आती है । अपनी अंतरात्मा को खोजो, उसके साथ एक हो , उसें अपने जीवन पर शासन करने दो तो तुम स्वाधीन हो जाओगे।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग -२)

प्रातिक्रिया दे