श्रीअरविंद के आशीर्वाद का आनन्द

…श्रीअरविंद के आशीर्वाद का आनन्द पाने के बाद, ज्यादा अच्छा यह है कि एकाग्र रहा जाये और औरों के साथ घुल-मिल कर बातें करते हुये अपना हर्ष फेंक देने की जगह उसे अपने अन्दर ताले-चाबी में बन्द करके रखा जाये।

संदर्भ : श्रीमातृवाणी (खण्ड-१६)

प्रातिक्रिया दे