भागवत संकल्प को जानना

भागवत संकल्प को जानने के लिये यह जरुरी है कि मन शान्त हो। शान्त मन में ही – जो भगवान की और मुड़ा हो – भगवान का संकल्प अन्तर्भासित (उच्चतर मन से) होता है, और उसे करने का ठीक तरीका भी तभी आता है ।

सन्दर्भ :श्रीअरविन्द के पत्र 

प्रातिक्रिया दे