रहस्य-ज्ञान – १३

वर्तमान में हम जो देख पाते हैं वह आने वाली भावी की एक छाया मात्र है।

संदर्भ : “सावित्री”

प्रातिक्रिया दे