तेरी सेवा

गहरे और मौन निदीध्यासन या लिखित या अलिखित ध्यान की जगह हमें हर क्षण की क्रियाशीलता में तेरी सेवा करनी चाहिए और अपने-आपको तेरे साथ तदात्म करना चाहिये ।

संदर्भ : प्रार्थना और ध्यान 

प्रातिक्रिया दे