रहस्य-ज्ञान – ८

हम अज्ञात से बाहर निकलते हैं, अज्ञात में लौट जाते हैं।

संदर्भ : “सावित्री”

प्रातिक्रिया दे