रहस्य ज्ञान – ७

अपने अन्तर में हम सतत एक जादुई चाबी छिपाये रहते हैं
यह जीवन के प्राण-रुद्ध एक खोल में बन्द है।

संदर्भ : “सावित्री”

प्रातिक्रिया दे