समृद्धि

समृद्धि केवल उसी के साथ टिकी रह सकती है जो उसे भगवान को अर्पित करता है ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग -२)

प्रातिक्रिया दे