रूपांतर

बाहर के सारे शोर को चुप कर दो, भगवान की सहायता के लिए अभीप्सा करो । जब वह आये तो उसकी और पूर्ण रूप से खुलो और उसकी क्रिया के आगे समर्पण करो । वह प्रभावकारी रूप से तुम्हारा रूपांतर ला देगी ।

संदर्भ : माताजी के वचन (भाग-३)

प्रातिक्रिया दे