धर्मक्षेत्र

सारा जीवन ही धर्मक्षेत्र है, संसार भी धर्म है । केवल आध्यात्मिक ज्ञानलोचना और शक्ति की भावना धर्म नहीं, कर्म भी धर्म है । यही महती शिक्षा सनातन काल से हमारे समस्त साहित्य में  व्याप्त रहीं हैं ।

सन्दर्भ : बंगला रचनाएँ 

प्रातिक्रिया दे