ज्योतिषियों की बात

तुम ज्योतिषियों की बात पर विश्वास ही क्यों करते हो ? यह विश्वास ही मुश्किल लाता है ।

 

श्रीअरविन्द कहते हैं कि मनुष्य अपने बारे में जो सोचता है वही बन जाता है ।

 

संदर्भ : माताजी के वचन ( भाग-३)

प्रातिक्रिया दे