भगवान् का स्वागत

हमेशा भगवान् का स्वागत करने के लिए तैयार रहो, ‘वे’ किसी भी क्षण तुम्हारे यहां आ सकते हैं । और अगर कभी ‘वे’ तुमसे निश्चित मिलन-स्थल पर प्रतीक्षा करवाते हैं तो निश्चय ही यह कोई कारण नहीं है कि तुम स्वयं देर करो ।

सन्दर्भ : माताजी के वचन (भाग-२) 

प्रातिक्रिया दे