सच्ची पराजय

सच्ची पराजय तब होती है जब व्यक्ति अपनी आत्मा को पाये बिना, उसके नियम के अनुसार जीवन बिताये बिना ही मृत्युको प्राप्त हो जाता हैं ।

संदर्भ : विचार और सूत्र के प्रसंग में 

प्रातिक्रिया दे