माताजी की सतत उपस्थिति

माताजी की सतत उपस्थिति अभ्यास के द्वारा आती हेसाधना में सफलता पाने के लिये भागवत कृपा अत्यंत आवश्यक हैपर अभ्यास ही वह चीज है जो कृपा-शक्ति के अवतरण के लिये तैयारी करती है ।

   तुम्हें भीतर की ओर जाना सीखना होगाकेवल बाहरी चीजों में ही रहना बंद करना होगामन को स्थिर करना होगा और अपने अंदर होनेवाली माताजी की क्रिया के विषय में सचेतन होने की अभीप्सा करनी होगी ।


सन्दर्भ : माताजी के विषय में 

प्रातिक्रिया दे